जाम वो है Jaam Woh Hai Lyrics in Hindi – Sainik | Kumar Sanu

जाम वो है Jaam Woh Hai Lyrics in Hindi – Sainik | Kumar Sanu








जाम वो है Jaam Woh Hai Lyrics in Hindi – Sainik | Kumar Sanu

जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है

जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है

लहरों को कभी ना छुपा पायेगा समंदर
लहरों को कभी ना छुपा पायेगा समंदर
रौशनी कभी ना छुपेगी शमा के अन्दर
रौशनी कभी ना छुपेगी शमा के अन्दर
चेहरा खामोश आईने में उतर जाएगा
रंग खुशबु का हवाओ में बिखर जाएगा
हो बिखर जाएगा

फूल वो है जो खिल के
महकता है, महकता है
फूल वो है जो खिल के
महकता है, महकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है

प्यार की चाहत की नई रौशनी दिखने
प्यार की चाहत की नई रौशनी दिखने
आया हूँ दिलो से मैं नफरतें मिटाने
आया हूँ दिलो से मैं नफरतें मिटाने
सारी दुनिया से तों हम दोस्ती निभाएंगे
प्यार का गीत सारी उम्र गुनगुनायेंगे
हो गुनगुनायेंगे

साज वो है जो नगमो पे
खनकता है, खनकता है
साज वो है जो नगमो पे
खनकता है, खनकता है

प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है
प्यार वो है जो आँखों से
झलकता है, झलकता है
जाम वो है जो भर के
छलकता है, छलकता है



जाम वो है Jaam Woh Hai Lyrics in Hindi – Sainik | Kumar Sanu Video




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *