दो पल रुका Do Pal Ruka – Veer Zaara

दो पल रुका Do Pal Ruka – Veer Zaara








दो पल रुका Do Pal Ruka – Veer Zaara

दो पल रुका खवाबों का कारवां
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ
दो पल की थी ये दिलों की दास्ताँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ..

तुम थे की थी कोई उजली किरण
तुम थे या कोई कलि मुस्काई थी
तुम थे या था सपनों का था सावन
तुम थे की खुशियों की घटा छायी थी
तुम थे के था कोई फूल खिला
तुम थे या मिला था मुझे नया जहां
दो पल रुका खवाबों का कारवाँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ

दो पल की थी ये दिलों की दास्ताँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ..

आ आ.. आ…

तुम थे या ख़ुशबू हवाओं में थी
तुम थे या रंग सारी दिशाओं में थे
तुम थे या रौशनी राहों में थी
तुम थे  या गीत गूंजे फिजाओं में थे
तुम थे मिले या मिली थी मंजिलें
तुम थे के था जादू भरा कोई समां
दो पल रुका खवाबों का कारवां

और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ
दो पल की थी ये दिलों की दास्ताँ

और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ
और फिर चल दिए तुम कहाँ हम कहाँ



दो पल रुका Do Pal Ruka – Veer Zaara Video




Was this helpful?

0 / 0

Leave a Reply 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *